निर्देश नहीं मानेंगे तो निलम्बित होंगे

LiveUjjainNews 21:48:09,10-Oct-2017 उज्जैन
img

संभागीय समीक्षा बैठक में संभागायुक्त ने दिए निर्देश

      उज्जैन 10 अक्टूबर। बार-बार निर्देश दिए जाने के बावजूद भी कतिपय अधिकारियों का बैठक में नहीं आना तथा शासकीय कार्य की अवहेलना करना, घोर अनुशासनहीनता है। वे अपना कार्य एवं व्यवहार सुधार लें। भविष्य में यदि शासकीय निर्देश नहीं माने तो सीधे निलम्बन की कार्रवाई होगी।

संभागायुक्त श्री एमबी ओझा ने आज मंगलवार को बृहस्पति भवन में संभागीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक में ये निर्देश दिए। बैठक में अधीक्षण यंत्री जल संसाधन, संभागीय वाणिज्यिक कर अधिकारी आदि की अनुपस्थिति को संभागायुक्त द्वारा गंभीरता से लिया गया। बैठक में अपर संभागायुक्त डॉ.अशोक कुमार भार्गव, संयुक्त आयुक्त श्री प्रतीक सोनवलकर, उपायुक्त श्री पवन जैन, अपर कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े, सीईओ यूडीए श्री अभिषेक दुबे सहित सभी संभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

कल प्रशिक्षण, परसों विशेष ग्राम सभाएं

      संभागायुक्त ने संभाग में भावान्तर योजना के पंजीयन की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि प्रत्येक अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) अपने स्तर पर भावान्तर योजना सम्बन्धी प्रशिक्षण 11 अक्टूबर बुधवार को सम्बन्धित अधिकारियों को दें तथा 12 अक्टूबर को प्रत्येक ग्राम पंचायत में विशेष ग्राम सभाओं का आयोजन किये जाकर उनमें भावान्तर पंजीयन से शेष बचे किसानों का ‘ऑफलाइन’ पंजीयन किया जाए। विशेष ग्राम सभा का प्रारम्भ पूर्वाह्न 11 बजे प्रदेश के मुख्यमंत्री के दूरदर्शन पर किसानों के सम्बोधन से होगा। इसके बाद ग्राम सभाओं में भावान्तर के पंजीयन का कार्य होगा। कार्य को पूरी गंभीरता से किया जाये, किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। संयुक्त संचालक मंडी ने बताया कि संभाग में अभी तक 01 लाख 89 हजार 309 किसानों का पंजीयन किया जा चुका है। उज्जैन जिले में अभी तक 01 लाख 80 हजार के लक्ष्य के विरूद्ध 55 हजार 644 किसानों का पंजीयन किया गया है। संभागायुक्त ने पंजीयन के साथ-साथ रकबे का सत्यापन भी किए जाने के निर्देश दिए।

12 अक्टूबर को लाड़ली शिक्षा पर्व

      संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास ने बताया कि आगामी 12 अक्टूबर को सभी जिलों में लाड़ली लक्ष्मी शिक्षा पर्व आयोजित किया जा रहा है, जिसके अन्तर्गत 5वी से 6वी में गई लाड़ली लक्ष्मियों को 02-02 हजार रूपये के प्रमाण-पत्र प्रदान किए जाएंगे। कार्यक्रम का शुभारम्भ दोपहर 12 बजे से प्रदेश के मुख्यमंत्री के दूरदर्शन के माध्यम से सम्बोधन से होगा। उज्जैन जिले में इस कार्यक्रम के लिए 03 स्थानों का चयन किया गया है।

दीपावली के दूसरे दिन से ‘गोकुल महोत्सव’

      बैठक में बताया गया कि संभाग के सुसनेर में स्थित पशु गो-अभ्यारण्य में 4291 पशु वर्तमान में हैं। शासन की योजना के अन्तर्गत दीपावली के दूसरे दिन से गोकुल महोत्सव का आयोजन किया जाएगा, जिसके अन्तर्गत पशुओं का टीकाकरण किया जाएगा। इसमें विशेष रूप से मुख एवं खुर के रोगों से बचाव के प्रयास किए जाएंगे।

कुपोषित बच्चों की सूची दें

      संभागायुक्त ने कहा कि संभाग के सभी जिलों को कुपोषणमुक्त किए जाना उनकी प्राथमिकता है, अत: महिला एवं बाल विकास विभाग संभाग के सभी जिलों के कुपोषित बच्चों एवं सम्बन्धित आंगनवाड़ी केन्द्रों की सूची उपलब्ध कराए, जिसके आधार पर कुपोषण दूर करने की सघन कार्रवाई की जाए।

स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार

      संभागायुक्त ने संयुक्त संचालक शिक्षा को निर्देश दिए कि शासन की ‘स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार योजना’ के अन्तर्गत संभाग के अधिक से अधिक विद्यालयों के नाम शासन को भिजवाए जाएं। इसके अन्तर्गत शालाओं में विशेष रूप से पृथक-पृथक शौचालयों, पानी की उपलब्धता, बाल संसद का आयोजन आदि मापदण्ड हैं। इसमें प्रदेश के प्रथम 05 जिलों को पुरस्कृत किया जाएगा। इसके अन्तर्गत उज्जैन जिले की स्थिति काफी अच्छी बताई गई।

तृतीय पक्ष की जानकारी न दें

      संभागायुक्त ने सूचना के अधिकार अधिनियम के प्रकरणों के निराकरण के सम्बन्ध में अधिनियम के प्रावधानों के विषय में बताया कि इसके अन्तर्गत कार्यालय में उपलब्ध जानकारी आवेदक को प्रदाय की जानी है, परन्तु इसमें इस बात का ध्यान रखा जाए कि तृतीय पक्ष की जानकारी बिना उसकी सहमति के आवेदक को प्रदान न की जाए। यदि आवेदन अस्पष्ट है तो आवेदक को कार्यालयीन रिकार्ड का अवलोकन कराकर वांछित जानकारी नियमानुसार प्रदान की जा सकती है। अधिनियम के अन्तर्गत कोई भी जानकारी तैयार करके दिए जाने का प्रावधान नहीं है, जानकारी जिस रूप में कार्यालय में संधारित है, उसी रूप में आवेदक को प्रदान की जाए। अधिनियम के अन्तर्गत समय-सीमा 30 दिन का विशेष ध्यान रखा जाए।

बीमारी सहायता की राशि तुरन्त जारी करें

      संभागायुक्त ने संयुक्त संचालक स्वास्थ्य को निर्देश दिए कि शासन की बीमारी सहायता योजना के अन्तर्गत दी जाने वाली राशि तुरन्त आवेदक को जारी की जाए, जिससे वह समय से इलाज करा सके। इसमें विलम्ब अक्षम्य है। उन्होंने प्रसूति सहायता योजना तथा जननी सुरक्षा योजना का लाभ भी समय से हितग्राहियों को दिए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट किया कि योजना का लाभ न देने में यह बहाना नहीं चलेगा कि हितग्राही का बैंक में खाता नहीं है। संभागायुक्त ने एडीएम श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी को निर्देश दिए कि प्रशासन द्वारा अस्पतालों का निरन्तर निरीक्षण किया जाए। सभी जिलों में स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सुनिश्चित करें।

Related Post