सड़कों पर बरसे रांगोली के रंग, छाई रथयात्रा की उमंग

LiveUjjainNews 22:50:00,03-Aug-2017 उज्जैन
img

9 दिवसीय नवकार आराधना पूर्ण होने पर निकली डेढ़ किलोमीटर लंबी रथयात्रा-चांदी के प्रभु रथ सहित हाथी, घोड़े, बग्घी रहे शामिल
उज्जैन। नौ दिवसीय नवकार आराधना पूर्ण होने पर गुरूवार सुबह 9 बजे हीर विजयसूरिश्वर बड़ा उपाश्रय से डेढ़ किलोमीटर लंबी भव्य रथ यात्रा निकली। रथयात्रा मार्ग पर कलाकारों ने सड़क पर रांगोली के रंग बिखेरे तो समाजजन उत्साह व उमंग के साथ प्रभु भक्ति में नाचते हुए निकले। दो चांदी के प्रभु रथ, चांदी की वेदीजी, दो हाथी, 8 बग्घी, 10 घोड़े, इंद्रध्वजा सहित 18 महिला मंडल व त्रिआचार्यों की पावन निश्रा ने समूचे रथयात्रा मार्ग को धर्ममय बना दिया। 
बड़ा उपाश्रय ट्रस्ट के संयोजन में तथा गच्छाधिपति आचार्य दौलतसागर म.सा., आचार्य नंदीवर्धनसागर म.सा., आचार्य हर्ष सागर सूरिजी म.सा., साध्वी मुक्तिदर्शना श्रीजी की निश्रा में रथयात्रा निकली। उर्जा मंत्री पारस जैन ने त्रिआचार्यों की अगवानी की। भागसीपुरा, लखेरवाड़ी, छत्रीचैक, मिर्जा नईम बेग, कंठाल, छोटा सराफा होते हुए यात्रा पुनः बड़ा उपाश्रय मंदिर पहुंचकर धर्मसभा में परिवर्तित हुई। रथयात्रा दौरान समाज के युवा प्रभु का रथ खींचते हुए चले तो कुछ लोगों ने प्रभु की वेदीजी को कंधे पर उठाया। विभिन्न लाभार्थी बग्घियों पर सवार रहे। इसके उपरांत नईपेठ स्थित रंगमहल धर्मशाला में साधार्मिक वात्सल्य हुआ। जिसके लाभार्थी अनिलकुमार गादिया परिवार थे। इस अवसर पर बड़ा उपाश्रय ट्रस्ट अध्यक्ष विमल पगारिया, सचिव राजेश पटनी, चातुर्मास संयोजक लालचंद रांका, ललित कोठारी, कनकमल खाबिया, राजेन्द्र बांठिया, राकेश नाहटा, रेखा ओरा, रजत मेहता, दिनेश जैन हाईकमान, सुशील जैन, अभय जैन भैया, राहुल कटारिया, रितेश खाबिया, संजय जैन खलीवाला सहित बड़ी संख्या में समाजजन मौजूद रहे। 
पुरस्कृत हुए महिला मंडल
आचार्यश्री की प्रेरणा से महिला मंडलों ने नवकार महामंत्र पर आधारित प्रस्तुतियां व सजावट की थी। जिसमें संभवनाथ महिला मंडल वीडी मार्केट प्रथम, बड़ा उपाश्रय बहुमंडल व नवरत्न महिला मंडल संयुक्त रूप से द्वितीय व शंखेश्वर पाश्र्वनाथ महिला मंडल सुभाषनगर को तृतीय पुरस्कार मिला। इसके अलावा सभी महिला मंडलों को प्रोत्साहन पुरस्कार प्रदान किये गये। इसके निर्णायक राहुल कटारिया, रितेश खाबिया, अंकित चैपड़ा व रेखा ओरा रहे। 
प्रसाद के 5 हजार पैकेट वितरित
रथ यात्रा मार्ग के अंत में प्रसाद वितरण की व्यवस्था भी थी। दुकानदारों, व्यापारियों व राहगिरों में 5 हजार पैकेट लड्डू के प्रसाद का वितरण किया गया। 

Related Post